Breaking News

6/breakingnews/random

विशाखापट्टनम घूमने जाएं तो जरूर घूमें तो कैलाशगिरि, नेचर के साथ लीजिए स्ट्रीट फूड का मजा

No comments
अगर आपको विशाखापट्टनम का सबसे खूबसूरत व्यू देखना है तो कैलासगिरि जरूर जाएं। कोशिश करें कि यहां या तो सुबह के समय जाएं या फिर शाम को। कैलासगिरि एक छोटी सी पहाड़ी का नाम है जिस पर एक खूबसूरत पार्क बना है। इस पार्क की चोटी पर शिव-पार्वती की धवल प्रतिमा आपका स्वागत करती है। पहाड़ी से एक दिशा में विशाखापट्टनम का विहंगम दृश्य नजर आता है। चारों और हरियाली और ऊपर साफ नीला आकाश देखने लायक दृश्य बनता है। कैलासगिरि तक केबल कार द्वारा भी जाया जा सकता है। 90 रुपये खर्च कर इस रोपवे का आनंद उठा सकते हैं। पहाड़ी पर ही चिल्ड्रेन पार्क, टाइटैनिक व्यूप्वाइंट, फूलघड़ी, टेलीस्कोपिक प्वाइंट भी हैं। यहां बच्चों के लिए एक टॉय ट्रेन भी मौजूद है। जब आप बोटिंग करने समुद्र में जाएंगे तो वहां से भी कैलासगिरी नजर आता है। दूर से ही पहाड़ी पर सफेद अक्षरों में लिखा कैलासगिरि सुंदर लगता है। यहां से बंगाल की खाड़ी का दृश्य बहुत खूबसूरत नजर आता है।
डॉल्फिन नोज पहाड़ी
अगर आप रामकृष्ण बीच पर खड़े हैं तो आपके दाईं ओर छितिज पर एक अनोखी संरचना दिखाई देगी। यह एक गोलाकार पहाड़ी है, जिसे डॉल्फिन नोज कहा जाता है। इसकी ऊंचाई 350 मीटर है। आजादी से पहले ब्रिटिश आर्मी इस ऊंचे स्थान का उपयोग पूरे बंदरगाह और शहर पर निगरानी करने के लिए करती थी। यहां एक लाइटहाउस, चर्च, मजार और मंदिर भी मौजूद है।

सिंहाचलम मंदिर
यह भगवान विष्णु को समर्पित एक भव्य मंदिर है, जो विशाखापट्टनम से करीब 20 किलोमीटर दूर हरे-भरे सिंहाचलम पर्वत की चोटी पर बना है। हर वर्ष जून-जुलाई माह में हजारों श्रद्धालु सिंहाचलम पर्वत की 34 किलोमीटर लंबी परिक्रमा करते हैं। मंदिर की वास्तुकला देखने लायक है। यहां हिरण्यकश्यप और भक्त प्रह्लाद की पौराणिक कहानी मूर्ति स्वरूप में दर्शाई गई है। मंदिर का मुख पश्चिम की ओर है। इसके केंद्रीय भाग को कलिंग वास्तुकला शैली के अनुसार बनाया गया है। पहाड़ी की चोटी पर स्थित होने के कारण इस मंदिर का नाम सिंहाचलम पड़ा है। यह भगवान नरसिंह के भारत में स्थित 18 'नरसिंह क्षेत्रों' में से एक माना जाता है। यहां तक पहुंचने का रास्ता बेहद सुहावना है।

यहां बसी है शहर की आत्मा
कहते हैं विशाखापट्टनम की आत्मा उसकी तीन पहाडि़यों में निहित है। इन तीन पहाडि़यों की सबसे ऊंची चोटी को रॉस हिल कहा जाता है, जहां 'मदर मेरी' नाम का सफेद रंग का एक खूबसूरत चर्च है। यह वर्ष 1864 में बना था। दूसरी चोटी पर बाबा इश्क मदीना की दरगाह है और तीसरी पर भगवान वेंकटेश्र्वर का मंदिर। ये तीनों पहाडि़यां विशाखापट्टनम के लोगों के बीच के सांप्रदायिक सौहार्द का प्रतीक हैं।

पसिरेड्डु और केले के पकौड़े
विशाखापट्टनम का खाना अपने तेल और तीखे मसालों के लिए जाना जाता है। पूरे आंध्र प्रदेश के खानों में मिर्ची का अहम रोल होता है। पसिरेड्डु यहां की मशहूर डिश है, जिसे लोग नाश्ते में खाना पसंद करते हैं। मूंग की दाल से बना यह व्यंजन नारियल और टमाटर की चटनी के साथ खाया जाता है। ऋषिकोंडा पहाड़ी के पास एक छोटा सा रेस्टोरेंट है, जिसे राजू और उनकी पत्नी चलाते हैं। यह सी फूड के लिए बहुत मशहूर है। यहां का मटन करी, फ्राई फिश और प्रॉन्स मसाला जरूर चखें। विशाखापट्टनम का खाना मसालों से भरपूर होता है। रामकृष्ण बीच पर शाम  का मजा जरूर लें। यहां पर भुट्टे, चाट, पानीपुरी, मूड़ी, कच्चा आम मसालेदार आदि जरूर ट्राई करें। यहां मिर्ची और केले के पकौड़े भी बहुत स्वादिष्ट मिलते हैं। डिनर में मटन गोंगुरा जरूर ट्राई करें। यहां की दम बिरयानी भी बहुत मशहूर है।

No comments

Post a Comment

Internet

5/cate3/Internet

Contact Form

Name

Email *

Message *