पहाड़, झरने और वाइल्ड सेंचुरी का मजा एक ही जगह लेना चाहते हैं, तो मैसूर की इन जगहों पर जरूर घूमें

मैसूर से 85 किमी की दूरी पर बेंगलुरु से 170 किमी दूर एक ऊंची पहाड़ी श्रृंखला है।
हम में से ज्यादातर लोग ऐसे होते हैं, जो अपनी एक ट्रिप पर ज्यादा जगहों पर घूमना चाहते हैं। ये सोचकर लोग ऐसे शहर में जाना पसंद करते हैं, जहां पर घूमने-फिरने की ज्यादा से ज्यादा जगह हो। आइए, हम आपको ऐसे ही शहर के बारे में बताते हैं, जहां की 5 खूबसूरत जगहों पर घूमकर आपका मूड फ्रेश हो जाएगा।
कबीनी वाइल्ड लाइफ सेंचुरी
कबीनी वन्यजीव अभयारण्य मैसूर-मनंथवाड़ी रोड से 5 किलोमीटर की दूरी पर है। आप यहां नवम्बर से दिसम्बर में घूम सकते हैं। आपको यहां झील के आस-पास कई वन्य जीवों को देख सकते हैं। 
केआरएस बांध 
वृन्दावन गार्डन के ऊपर स्थित कृष्ण राजा सागर बांध मैसूर के पास एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। केआरएस बांध के नाम से मशहूर ये बांध भारत का सबसे पहला सिंचाई का बांध है मैसूर के महल की यात्रा करने वाले टूरिस्ट केआरएस बांध भी जरूर घूमते हैं।
श्रीरंगपटना
मैसूर से लगभग 18 किलोमीटर दूर स्थित श्रीरंगपटना एक शानदार शहर है जो कि कावेरी नदी से घिरा होने के कारण और भी खूबसूरत लगता है। इस शहर का नाम रंगनाथस्वामी मंदिर के नाम पर रखा गया है। 9वी सदी में गंगा राजवंश द्वारा बनाया गया श्रीरंगपटना दक्षिण भारत के सबसे महत्वपूर्ण वैष्णव तीर्थस्थलों में से एक है। 
बीआर हिल्स
मैसूर से 85 किमी की दूरी पर बेंगलुरु से 170 किमी दूर एक ऊंची पहाड़ी श्रृंखला है, जो बीआर हिल्स के नाम से मशहूर है। बिलिगिरी रंगा पर्वत कर्नाटक के चामराजनगर जिले में है, जो भारत की खूबसूरत जगहों में से एक है।बीआर हिल्स बिलीगिरी रंगास्वामी मंदिर वन्यजीव अभयारण्य के लिए मशहूर है।

बांदीपुर नेशनल पार्क
बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान मैसूर से 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह उद्यान कर्नाटक की सीमा पर स्थित चामराजनगर जिले में स्थित है और अपने असंख्य वन्यजीवों के लिए प्रसिद्ध है। यह उद्यान 874 वर्ग किलोमीटर तक फैला हुआ है जिसमें पशुओं और वनस्पतियों की कई प्रजातियां हैं।  

0/Post a Comment/Comments

Sponsor