Breaking News

6/breakingnews/random

Interesting Facts About Yamuna River In Hindi | यमुना नदी के बारें में रोचक जानकारियाँ

No comments
Yamuna River in Hindi – वर्तमान समय में सभी नदियों का जल धीरे-धीरे प्रदूषित होता जा रहा हैं जिसके बारे में सरकारें सोचती तो है पर कोई कारगर कदम नही उठा पा रही हैं. सरकार और जनता की उदासीनता के कारण नदियाँ कई जगहों से विलुप्त भी हो रही हैं.
इस पोस्ट में हम यमुना नदी के बारें में बात करेंगे जो यमुनोत्री (उत्तरकाशी से 30 किमी उत्तर, गढ़वाल ) नामक जगह से निकलती हैं और प्रयाग (इलाहबाद) में गंगा से मिल जाती हैं.

Interesting Facts About Yamuna River | यमुना नदी के बारें में रोचक जानकारियाँ

  1. भारतवर्ष की सर्वाधिक पवित्र और प्राचीन नदियों में यमुना की गणना गंगा के साथ की जाती है.
  2. यमुना नदी यमुनोत्री नामक जगह से निकलती हैं और यह गंगा नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी हैं.
  3. यमुना नदी की लंबाई लगभग 1,376 कि.मी. (855 मील) हैं.
  4. यमुना नदी की औसत और अधिक्तम गहराई 3 मीटर और 11 मीटर तक है. दिल्ली के निकट इसकी अधिकतम गहराई 50 मीटर है. आगरा में, यह गहराई 1 मीटर तक हैं.
  5. यमुना नदी की प्रमुख सहायक नदियों में चम्बल, सेंगर, छोटी सिंध, बेतवा, केन उल्लेखनीय हैं.
  6. यमुना नदी के तटवर्ती शहरों में दिल्ली, आगरा, इटावा, काल्पी, हमीरपुर और प्रयाग (इलाहाबाद) प्रमुख हैं.
  7. विश्व के सात अजूबों में शामिल विश्वप्रसिद्ध ताजमहल ( Tajmahal ) इसी नदी के किनारे बसा हैं.
  8. इस नदी को कालिंदी के नाम से भी जाना जाता हैं. इस नदी के चौबीस घाट हैं जिसमें सार्वधिक घाट ब्रज (मथुरा) में हैं.
  9. मथुरा यमुना के तट पर बसा हुआ एक ऐसा ऐतिहासिक और धार्मिक स्थान है, जिसकी दीर्घकालिन गौरव गाथा प्रसिद्ध है.
  10. इलाहाबाद में यमुना एक विशाल नदी का रूप ले लेती हैं और यहाँ के प्रसिद्ध एतिहासिक किले के नीचे गंगा नदी से मिल जाती हैं.
  11. यमुना और गंगा संगम के कारण ही, प्रयाग (इलाहबाद) को तीर्थराज का महत्व प्राप्त हुआ है.
  12. प्रयाग (इलाहाबाद) में यमुना पर एक विशाल पुल निर्मित किया गया है, जो दो मंजिला है. इसे उत्तर प्रदेश का विशालतम सेतु माना जाता है.
  13. वाल्मीकि रामायण और विष्णु पुराण में यमुना नदी का विवरण प्राप्त होता है

No comments

Post a Comment

Internet

5/cate3/Internet

Contact Form

Name

Email *

Message *