जन्माष्टमी शायरी | Janmashtami Shayari - Shayari In Hindi

Janmashtami Shayari (जन्माष्टमी शायरी) – इस पोस्ट में आपको कृष्ण जन्माष्टमी शायरी (Krishna Janmashtami Shayari), जन्माष्टमी शायरी (Janmashtami Shayari), भगवान् कृष्ण पर शायरी (Bhagwan Krishna Pr Shayari) आदि मिलेंगे. आप इसे फेसबुक, व्हाट्सऐप और अन्य सोशल मिडिया पर अपने दोस्तों और चाहने वालो के साथ शेयर कर सकते हैं.
कृष्ण जन्माष्टमी शायरी हिंदी में (Krishna Janmashtami Shayari in Hindi)
जो सबको राह दिखाते और सबकी बिगड़ी बनाते हैं,
हम तो ऐसे कृष्ण-कन्हैया का गुणगान गाते हैं.
हैप्पी जन्माष्टमी (Happy Janmashtami)

चंदन की ख़ुशबू को रेशम का हार,
सावन की सुगंध और बारिश की फुहार,
राधा की उम्मीद को कन्हैया का प्यार,
मुबारक हो आपको जन्माष्टमी का त्यौहार.
Happy Krishna Janmashtami

मिश्री से मीठे नन्द लाल के बोल,
इनकी बातें हैं सबसे अनमोल,
जन्माष्टमी के इस पावन अवसर पर,
दिल खोल के जय श्री कृष्ण बोल.
Happy Krishna Janmashtami

सोचा किसी अपने से बात करें,
अपने किसी खास को याद करें,
किया जो फैसला जन्माष्टमी की शुभकामना देने का,
दिल ने कहा क्यों न आपसे शुरूआत करें.
Happy Krishna Janmashtami

हो काल-गति से परे चिरंतन अभी वहाँ थे, अभी यहाँ हो,
कभी धरा पर, कभी गगन में, कभी कहाँ थे, कभी कहाँ हो,
तुम्हारी राधा को भान हैं तुम सकल चराचर में हो समायें,
बस एक मेरा हैं भाग्य मोहन कि जिसमें हो कर भी तुम नही हो.

न द्वारका में मिले विराजे, बिरज की गलियों में भी नही हो,
न योगियों के हो ध्यान में तुम, अहं जड़े ज्ञान में नही हो,
तुम्हें ये जग ढूढ़ता है मोहन, मगर इसे ये ख़बर नही हैं,
बस एक मेरा है भाग्य मोहन, अगर कहीं हो तो तुम यही हो.

माखन चुराकर जिसने खाया,
बंसी बजाकर जिसने नचाया,
ख़ुशी मनाओ उनके जन्म दिन की,
जिन्होंने दुनिया को प्रेम का रास्ता दिखाया.

छोड़ा सबका दामन हठयोग में तुम्हारे,
मेरी साँसे उखड़ रही वियोग में तुम्हारे,
लौट आओ मोहने किस बात पे अड़े हो,
मूर्त बनकर बस मंदिर में क्यों खड़े हो.

मुरली मनोहर कृष्ण कन्हैया,
जमुना के तट पे विराजे हैं,
मोर मुकुट पर कानों में कुंडल,
कर में मुरलिया साजे हैं…
Wishing you a Happy and Blessed Janmashtami

मुरलीधर जिसका नाम गोकुल जिसका धाम,
ऐसे श्री गोपाला को हम सब करें प्रणाम.
Happy Krishna Janmashtami

राधा की भक्ति, मुरली की मिठास,
माखन का स्वाद और गोपियों का रास,
सब मिलके बनाता हैं जन्माष्टमी का दिन ख़ास.
Happy Janmashtami

0/Post a Comment/Comments

Sponsor