Breaking News

6/breakingnews/random

2019 महाशिवरात्रि कथा व निबंध Maha Shivaratri Story Essay in Hindi

No comments
Mahashivratri in hindi essay 2019, importance of mahashivratri in hindi 2019, mahashivratri mahatva, five line on shivratri, shivratri kya hai, mhashivratri 2019,

आज हम इस पोस्ट में आपको बताएँगे महाशिवरात्रि की कहानी, इसका महत्व और इस महा पर्व की तारीख के विषय में। महाशिवरात्रि भगवान् शिवजी पर आधारित पौराणिक काल से चाला आ रहा एक भारतीय त्यौहार है। साथ ही इस पोस्ट में हमने भगवान शिव की कहानी भी बताई हैं जिनके विषय में पढ़ कर आपको शिवजी के विषय में और जानकारी मिलेगी।
2019 महाशिवरात्रि कथा व निबंध Maha Shivaratri Story Essay in Hindi

ॐ नमः शिवाय
Maha Shivaratri Story Essay in Hindi 
महाशिवरात्रि कथा व निबंध Maha Shivaratri Story Essay in Hindi

2019 में महाशिवरात्रि कब है ? When Maha Shivaratri is Celebrated?
4 मार्च 2019 को महाशिवरात्रि है।

2018 महाशिवरात्रि मुहुर्त कब है?  Maha Shivaratri Muhurta in Hindi
शुभ मुहूर्त शुरू – शाम 04:28, 4 मार्च 2019
शुभ मुहूर्त समाप्त – 07:07, 5 मार्च 2019

महाशिवरात्रि का महोत्सव क्यों और कैसे मनया जाता है? Why & How Maha Shivaratri is Celebrated?
महाशिवरात्रि एक हिन्दू पर्व या त्यौहार है जो प्रतिवर्ष भगवान् शिव के सम्मान में मनाया जाता है। यह दिन हर साल सर्दियों के महीनों के खतम-ख़तम होते-होते फरवरी या मार्च में आता है।

शिवरात्रि का त्यौहार शिव और शक्ति का अभिसरण है। दक्षिण भारतीय कैलेंडर के अनुसार माघ महीने के कृष्ण पक्ष, चतुर्दशी तिथि में महाशिवरात्रि मनाया जाता है।

भारत में महाशिवरात्रि रात के समय मनाया जाता है। इस दिन शिवजी के मंदिरों को बहुत ही सुन्दर तरीके से सजाया जाता है। बड़े शहरों में मंदिरों के रास्तो और मंदिरों को सुन्दर रंगीन लाइट से साजते हैं जो रात के समय बहुत जगमगाते हुए सुन्दर नज़र आता है या प्रभा की तैयारी की जाती है।

मंडी का शिवरात्रि मेला महाशिवरात्रि के उत्सव के लिए सबसे मशहूर स्थान है। मंडी के इस शिवरात्रि मेले में दूर -दूर से शिव भक्त आते हैं। यह माना जाता है कि 200 से भी ज्यादा देवी और देवता महाशिवरात्रि पर वहां होते हैं। यह टाउन व्यास नदी के किनारे स्तिथ है।

यह हिमाचल प्रदेश का सबसे पुराना नगर है जहाँ 81 से ज्यादा अलग-अलग देवी देवताओं के मंदिर हैं। कश्मीर शैव में महाशिवरात्रि बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार है।
यह त्यौहार भगवान शिव और पारवती के विवाह सालगिराह पर मनाया जाता है। शिवरात्रि के 3-4 दिन पहले से ही यह महोत्सव शुरू हो जाता है और शिवरात्रि के दो दिन बाद चलता है।

महाशिवरात्रि को बड़े तौर पर मनाने वाले मंदिर महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, केरल, तमिल नाडू, मध्य प्रदेश और तेलन्गाना। वैसे तो पुरे भारत में शिवजी की पूजा सभी शहरों में की जाती है परन्तु मध्य भारत में सबसे अधिक शिव भक्त हैं।
उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर (Mahakaleshwar Temple, Ujjain) शिव जी एक सबसे पवित्र और सम्मानीय धार्मिक स्थलों में से एक माना जाता है। महाशिवरात्रि के दिन यहाँ लाखों श्रद्धालु शिवजी की आराधना और आशीर्वाद पाने के लिए एकत्रित होते हैं।

जबलपुर शहर के तिलवारा घाट(Jabalpur City, Tilwara)  और जिओनारा गाँव, सिवनी(Jeonara, Seoni) अन्य ऐसे धार्मिक स्थल हैं जहाँ भी शिवरात्रि का त्यौहार बहुत ही धूम-धाम से मनाया जाता है।

काशी, वाराणसी के विश्वनाथ मंदिर(Varanasi, Bishwanath Temple)  में शिव लिंग की पूजा की जाती है जिसे प्रकाश के स्तंभ का प्रतीक माना जाता है और शिवजी को सर्वोच्च ज्ञान का प्रकाश माना जाता है।

महाशिवरात्रि का महापर्व नेपाल में भी बहुत ही श्रद्धा और धूम धाम से मनाया जाता है पर सबसे ज्यादा इसकी धूम पशुपतिनाथ मंदिर(Pashupatinath Temple) में देखा जाता है। यहाँ हजारों की तगाद में शिव भक्त मशहूर शिव शक्ति पीठ को देखने भी जाते हैं। नेपाली सेना इस अवसर पर भगवान् शिव को श्रधांजलि देते हुए काठमांडू शहर के चारों और परेड करते हैं पवित्र मंत्रों का उच्चारण भी करते हैं। महाशिवरात्रि के रात को कई जगह शास्त्रीय संगीत और नृत्य का आयोजन किया जाता है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति के लिए लम्बी उम्र की कामना करती हैं और अविवाहित लडकियां शिव भगवान् के जैसा स्वामी पाने के लिए कामना करते हैं।

महाशिवरात्रि कथा / कहानी Maha Shivaratri Story in Hindi (Shiv Puran Story – शिव पुराण कथा)
वैसे तो पुरानों में महाशिवरात्रि के पर्व को मानाने के कारण को दर्शाते कई कहानियाँ पढ़े गए हैं। उनमें से कुछ महत्वपूर्ण शिवजी कहानी आज हम आपको यहाँ बताने जा रहे हैं –

शिवजी को नीलकंठ क्यों कहते हैं? Why Lord Shiva Called Neelkanth?
Why Lord Shiva Called Neelkanth?
एक बार की बात है, अमृत की खोज में समुद्र मंथन हुआ। इस समुद्र मंथन में देवता और असुर दोनों ने भाग लिया। समुद्र मंथन के दौरान एक विष का मटका उत्पन्न हुआ। विष के मटके को देख कर देवताओं और असुरों के मन में डर से हाहाकार मच गया क्योंकि उस विष में इतनी शक्ति थी कि पूरा विश्व द्वंस हो सकता था।

सभी देवता मदद मांगने के लिए भगवान् शिव के पास पहुंचे। विष के प्रकोप से दुनिया को बचाने के लिए शिवजी ने विषय को पी लिया परन्तु उसे अपने गले से नीचे जाने नहीं दिया। विष की ताकत से शिवजी का गाला नीला पड़ गया। उनका गला नीला पड़ने के कारण शिवजी को नील खंठ नाम से जाना जाता है।

महाशिवरात्रि पर रात भर पूजा करने का कारण क्या है? Why devotees worship whole night on Maha Shivratri?

एक बार की बात है एक आदिवासी व्यक्ति था। वह भगवान् शिव का अपार भक्त था। एक बार वह जंगल में लकडियाँ लेने गया।  लकड़ी लेकर आते समय बहुत देर होने के कारण अँधेरा हो गया और वह रास्ता भूल गया। अँधेरे और रास्ता ना दिखने के कारण वह आगे नहीं बढ़ पाया।

ज्यादा रात होने पर जंगली जानवरों की भयानक आवाजें जंगल में सुनाई देने लगी। जंगली जानवरों के डर और उनसे बचने के लिए वह एक ऊँचे पेड़ पर चढ़ गया। नींद आने पर पेड़ से गिरने के डर से बचने के लिए उसने एक तरकीब निकला।

उसने सोचा की वो रात भर उस पेड़ के पस्सों को तोड़ कर नीचे गिरता रहेगा ताकि उसको नींद ना आ सके और ना गिरे। उसने भगवान् शिव का नाम लेते हुए एक-एक करके पत्ते तोड़ कर नीचे गिराने लगा।

एसा करते-करते सुबह हो गयी। जिस पेड़ पर वह व्यक्ति बैठा था वह एक बेल का पेड़ था। जब उसने नीचे देखा तो उसे एक लिंग दिखा जिस पर वह हज़ार बेल के पत्ते गिरा चूका था। जिसके कारण शिवजी बहुत खुश हुए और उन्होंने उसे दिव्य आनंद का आशीर्वाद दिया।

No comments

Post a Comment

Internet

5/cate3/Internet

Contact Form

Name

Email *

Message *