Sunday, 7 April 2019

FSSAI क्या है ? FSSAI Full Form in Hindi

नमस्कार दोस्तों,हम सभी रोजाना कुछ न कुछ खाते पिते  रहते है और इस बीच में हम रोजाना बाजार की भी बहुत चीजे खाते है। शायद आपने कभी न कभी किसी चीज पर एक आइकॉन देखा होगा जिस पर FSSAI लिखा होगा। ऐसे में शायद आपके मन में उसे देखकर सवाल उठा होगा की आखिर यह FSSAI क्या होता है? और यह क्या काम करता है जो इस प्रोडक्ट पर इसका लोगो या आइकॉन है।
दोस्तों यह कोई साधारण चीज नहीं है और कई बार इसे जुड़े हुए सवाल कई सारे पेपर्स में भी आते है। अब जब खाने पिने की चीजों में इसका आइकॉन आता है तो अब आप यह तो समझ ही गए होंगे की यह Foods अर्थात खाध्य सामग्री से जुड़ा हुआ है। पोस्ट में हम FSSAI क बारे में ही बात करेंगे और जानेंगे की FSSAI क्या होता है और इसका काम क्या है।
What is Fssai ? | Why is Fssai important?
FSSAI क्या है – What is FSSAI in Hindi
 FSSAI Full Form : Food Safety and Standards Authority of India
FSSAI Full Form in Hindi : भारत की खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण
 यह सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा बनाया गया है जिसे Food Safety and Standards Act, 2006 के तहत लागु किया गया था।

भारत एक बहुत बड़ा देश है जिस में रोजाना कई सारे फूडसौर उससे रिलेटेड सामग्री बनती और बिकती है तो इसके कोई नियंत्रण होना जरुरी है।
यह भारत का एक ऐसा कानून है जो की खाद्य सामग्री की Safety और Ragulation यानि की विनियमन से जुड़ा हुआ है। Fssai एक ऐसी सरकारी संस्था है जिसका काम भारत में बुरी खाद्य सामग्री के प्रचार आदि को रोकना है या फिर कहे तो भारत में बिक रही खाद्य सामग्री पर नजर रखना है और देखना है की कही कुछ गलत तो नहीं हो रहा।

FSSAI Full Details in Hindi – FSSAI की पूरी जानकारी हिंदी में
FSSAI के लिए अध्यक्ष भारत की केंद्र सरकार द्वारा चुना जाता है जो की गैर-कार्यकारी होता है। फिलहाल FSSAI का अध्यक्ष प्रीति सुदान है और पवन कुमार इसके Chief Executive Officer है। FSSAI का हेड क्वाटर दिल्ली में स्थित है। इसके अलावा FSSAI के ऑफिस भारत के अन्य 6 शहरो में भी है जो की दिल्ली, गुहाटी, मुंबई, कोलकाता, कोचीन और चेन्नई में है।

FSSAI की लगभग 12 मुख्य प्रयोग शाला भारत में उपस्थित है और लगभग 112 Private प्रयोगशालाए इससे मान्यता प्राप्त है। साल 2008 में 5 सितम्बर को डॉक्टर अंबुमणि रामदास ने FSSAI की स्थापना Food Safety and Standards Act, 2006 के तहत की थी। आपको बता दे की फिलहाल FSSAI में एक अध्यक्ष और २२ मेंबर्स होते है।

इसे भी पढ़े: ISI Mark क्या है जानिए पूरी जानकारी | What Is ISI In India?

FSSAI नाम की यह संस्था भारत में मिलने वाले सभी Foods पर Standards स्थापित करती है ताकि उसके उपभोक्ताओं, व्यापारियों, निर्माताओं और निवेशकों आदि को उसको लेकर कोई भी प्रॉब्लम नहीं हो। FSSAI की Administrative Ministry भारत सरकार की स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय है। FSSAI के पास कई सारी वैधानिक शक्तिया है।

FSSAI के पास कई वैधानिक शक्तिया या फिर कहे तो अधिकार है जिनमे खाद्य सुरक्षा मानकों को निर्धारित करने के लिए नियमों को तैयार करना, खाद्य परीक्षण के लिए प्रयोगशालाओं के प्रमाणीकरण के लिए दिशानिर्देश तैयार करना, केंद्र सरकार को वैज्ञानिक सलाह और तकनीकी सहायता प्रदान करना, भोजन में अंतरराष्ट्रीय तकनीकी मानकों के विकास में योगदान, खाद्य खपत, प्रदूषण, उभरते जोखिम आदि के बारे में डेटा एकत्र करना और एकत्र करना, भारत में खाद्य सुरक्षा और पोषण के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना और जागरूकता को बढ़ावा देना आदि है।
FSSAI के लगभग 10 डिपार्टमेंट है जिनमे आयात प्रभाग, अंतरराष्ट्रीय सहयोग, नियामक अनुपालन प्रभाग, खाद्य सुरक्षा प्रबंधन प्रणाली डिवीजन, जोखिम आकलन और अनुसंधान एवं विकास विभाग, सूचना शिक्षा संचार डिवीजन, विनियमन और कोडेक्स डिवीजन, गुणवत्ता आश्वासन या कहे तो प्रयोगशाला प्रभाग, एचआर डिवीजन, मानक डिवीजन आदि है।

FSSAI ने Food Safety Research के लिए कुछ Guidelines भी बना रखी है। FSSAI को Foods के Standard और Quality से रिलेटेड कई कामो के लिए अधिकार दिए गए है। अन्य कई सारे कामो के अलावा इन कामो में ”ISO 17025” के अनुसार मान्यता प्राप्त हुई प्रयोगशालाओं की Notification के लिए Process और Guidelines रखना शामिल है, ताकि वह कुछ गलत ना करे जिससे की किसी को हानि हो।

FSSAI के द्वारा तैयार किये Standards को Food Safety and Standards Food Additives Regulation 2011, Food Safety and Standards (Packaging and Labeling) Regulation 2011 और Food Safety and Standards (Contaminants, Toxins, and Residues) Regulations 2011 के तहत तैयार किये गए है जो की बेहद ही सोच समाज कर और सुरक्षा का ध्यान रखते हुए बनाये गए है।

FSSAI ने कई सारे Food Products जैसे की Dairy products और analogues, Fats व oils और fat emulsions, Fruits and vegetable से जुड़े प्रोडक्ट्स, अनाज और अनाज से जुड़े प्रोडक्ट्स, मांस और उससे जुड़े प्रोडक्ट्स, मछली और उससे जुड़े प्रोडक्ट्स, मिठाई और कन्फेक्शनरी, शहद के जैसे अन्य मीठे पदार्थ, नमक व् अन्य मसाले और उनसे सम्बंधित प्रोडक्ट्स, कोल्डड्रिंक जैसे पेय पदार्थ आदि।

इसे भी पढ़े: ISI Mark क्या है जानिए पूरी जानकारी | What Is ISI In India?

न सभी Standards को FSSAI के द्वारा dynamic प्रोसेस जैसे की food science, food consumption pattern, नए food products और additives, processing technology में change और specifications में change, food analytical methods में advancements, और new risks के identification या अन्य regulatory options पर based होती है।
Food Safety and Standards Act 2006 के तहत Foods के किसी भी Article के Standard को बनाने में कई Steps शामिल है। Food Authority के द्वारा consideration के बाद, stakeholder comment को Invite करने के लिए Draft standard publish किया गया है।

क्युकी भारत WTO-SPS committee के लिए Signatory है, इसलिए WTO में Draft Standard भी Notified है। और फिर उसके बाद, Stack Holders से प्राप्त हुए Comments को ध्यान में रखते हुए, Standard को अंतिम रूप दिया गया और भारत के Gazette में अधिसूचित किया गया, और Implement किया गया।

आपको यह भी पता होना चाहिए की FSSAI food business and turnover की प्रकृति के आधार पर तीन प्रकार के लाइसेंस जारी करता है जो की Registration( 12 लाख से काम टर्न ओवर होने पर), State License(12 लाख से 20 करोड़ तक बजट होने पर) और Central License( 20 करोड़ से ऊपर बजट होने पर) है।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई हेतो इस पोस्ट को अपने मित्रो के साथ शेयर जरुर करे और कमेंट में अपना सवाल और सुजाव जरुर दे! और हमारे साथ इसी तरह बने रहे यहाँ आपको अन्य कई तरह की जानकारी प्राप्त होगी!
आपका अमूल्य समय देने के किये धन्यवाद्!

Post a Comment

The World's Best Tips are Just for You !

...
Let's Read These Tips...

Whatsapp Button works on Mobile Device only