Breaking News

6/breakingnews/random

How to Control Your Mind in Hindi | मन पर काबू या नियंत्रण कैसे करे

No comments
How to control mind in hindi,Self mind control techniques in hindi,how to control your mind in hindi ,Mind control hindi,How to control self mind in hindi,How to control mind for study in hindi.
How to Control Mind 
आपने अपने जीवन में कई बार अपने मन के विचारों को नियंत्रण करने की कोशिश की होगी? क्या आपके साथ ऐसा होता है कि आप कई जगहों पर सकारात्मक रवैया दिखाना चाहते हैं पर वहां आप नकारात्मक बातें कर के आते हों?
भले ही ये सब कुछ मिनटों के लिए होता है परन्तु ऐसे समय में आप अपने मन या दिमाग को नियंत्रित नहीं कर पाते हैं। हम दिन भर में जो भी काम करते और बात करते हैं सब कुछ हमारे दिमाग के द्वारा ही संचालित होता है।
एक दिमाग या मन के कई हिस्से होते हैं जो अलग-अलग प्रकार से मनुष्य के व्यवहार पर प्रभाव डालते हैं। अगर आप अपने मन को काबू करना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले यह समझना होगा कि आप अपने मन के विचारों और क्षेत्रों पर नियंत्रण नहीं कर पा रहे हैं और क्यों?
आज इस पोस्ट में हमने कुछ ऐसे ज़बरदस्त तरीकों के बारे में बताया है जिनकी मदद से आप आसानी से अपने मन पर काबू कर पाएंगे।

कैसे पायें मन पर काबू या नियंत्रण? How to control your mind tips in Hindi

तो चलिए जानते हैं वो ऐसे कौन से टिप्स हैं जिनसे आप अपने मन पर नियंत्रण पा सकते हैं…

1. सुनें और स्वीकार करें Listen and Accept
सबसे पहली बात अपने करीबी और ऑफिस के लोगों की बातों को सुनें। भले ही आप उनकी बातों को स्वीकार करना चाहते हों या नहीं उनकी बातों को सुनना बहुत ज़रूरी होता है। कभी-कभी लोग अपने आस-पास के व्यक्तियों की न तो बात सुनते हैं और साथ ही उनकी बातों से तंग भी हो जाते हैं।

कभी-कभी लोगों की बातें सुनने से कुछ ऐसे आइडियाज मिलते हैं जिनसे बहुत कुछ अच्छे काम होने की संभावना होती है। अपने मन पर नियंत्रण रखने का सबसे बेहतरीन तरीका है लोगों की बातें सुनने के लिए अपने मन को मनाए। लोगों की बातें बार-बार सुनने की कोशिश में आपका मन आपके काबू में धीरे-धीरे आने लगेगा और लोगों की बातों से आपको तनाव भी महसूस नहीं होगा।

2. अपने जीवन के लिए योजना बनायें (Create a plan for your life)
अपने दिमाग को नियंत्रित, तेज़ और सही रास्ते पर रखने के लिए योजना बनाना बहुत आवश्यक होता है। एक ऐसी योजना जिसके हिसाब से आपको अपना लक्ष्य प्राप्त हो सके या फिर आपका करियर सेट हो सके।

अगर हो सके तो उस प्लान को लिखित रूप में अपने कमरे और हर उस जगह प्रिंट कर के चिपका दें जहाँ आप हर दिन काम करते हो। योजना बनाने से आपके मन को एक सही रास्ता दिखेगा और बिच-बिच में वह नहीं भटकेगा। मन का ना भटकना यानी की मन पर नियंत्रण पाना।

3. अपने मन को शांत रखें (Keep your mind calm)
कभी-कभी हमारा मन कुछ इस प्रकार की हरकत करता है जिसके कारण हमको बाद में बहुत बुरा लगता है और सोचने में भी मजबूर कर देता है कि ऐसा नहीं होना चाहिए। इसका एक सबसे बड़ा उदाहरण है क्रोधित होना। जब हम गुस्सा होते हैं उस समय हम क्या बोल रहे हैं हमें ध्यान नहीं होता है पर जब बाद में हम उसके विषय में सोचते हैं तो बहुत अजीब लगता है।

गुस्सा होते समय हमारे मन पर हमारा काबू नहीं होता है इसलिए सबसे पहले मन को शांत करना आना चाहिए। मन को शांत रखने के लिए नियमित रूप से व्यायाम और योग करें और गुस्सा होने पर अपने मन में किसी अच्छे पल को याद करने की कोशिश करें।

Read Also: How To Apply Driving Licence Read In Hindi Language

4. अपने विचारों और कथनों पर ध्यान दें (Focus on your thoughts)
कभी-कभी हम अपने विचारों और हर दिन बात करने के तरीकों पर ध्यान नहीं देते हैं जो हमारी सबसे बड़ी ग़लतियाँ होती हैं। अगर आप अपने मन पर नियंत्रण पाना चाहते हैं तो आप क्या बोल रहे हैं और क्या सोच रहे हैं उस पर ध्यान देना बहुत आवश्यक होता है।
जब आप बाद में बैठ कर सोचते हैं कि आज मैंने ऐसा उस व्यक्ति से कहा, जो बहुत अच्छा था या बुरा था तो इससे आपके दिमाग में एक नियंत्रण कायम होता है। इससे अगली बार जब आपके मुख से कुछ भी निकलेगा आपका मन एक नियंत्रण के साथ उस चीज को निकालेगा।
आप जो अच्छी बातें करते हो उसके लिए खुद की सराहना करें और जो बुरी या गलत बातें करते हैं उसके लिए खुद के मन को समझाएं की ऐसा नहीं करना चाहिए या बोलना चाहिए।

5. मन को सही दिशा देने के लिए अभ्यास करें (Practice to show right path to brain)
जब हम अपने भावनाओं को चुनते हैं – हम उनसे होने वाले फायदों को भूल सा जाते हैं। हमें अपने मन के भावनाओं को समझना बहुत ज़रूरी है क्योंकि यही वो चीजें होती हैं जो हमें हमारे जीवन की असलियत को दिखाते हैं।
इनसे हमें पता चलता है क्या हमारे लिए ज़रूरी है और क्या हमारे लिए सबसे सार्थक है? इन भावनाओं से हमें ज्ञात होता है कि हमें अब थोड़ी आराम की आवश्यकता है और खुद में कुछ नया लाना है। हमें इससे मुश्किल के समय में लड़ने के और बेहतरीन नए तरीके मिलते हैं।

Read Also: How To Apply Ayushman Bharat Yojana । Hindi Language

मन या दिमाग को तभी सही रास्ता ढूंडने में आसानी होती है जब हम अपने भावनाओं को एहसास करते है और उनकी बातों को मानते हैं। स्वयं को आलोचना देना बंद करें क्योंकि इससे मन में नकारात्मक भावनाएं उत्पन्न होती है जिससे मन रास्ता भटक जाता है और उस पर आपका नियंत्रण नहीं रहता है।

No comments

Post a Comment

Internet

5/cate3/Internet

Contact Form

Name

Email *

Message *